February 28, 2024

रणजी ट्रॉफी : उत्तर प्रदेश 16 साल का सूखा खत्म कर पाएगा, सेमीफाइनल में पहुंचीं मुंबई, बंगाल, मध्य प्रदेश और यूपी ऐसा है रिकॉर्ड

मुंबई की टीम सबसे ज्यादा 41 बार खिताब अपने नाम किया है। वहीं बंगाल की टीम दो बार और उत्तर प्रदेश की टीम एक बार खिताब जीतने में सफल रही है।

रणजी ट्रॉफी 2022 का सेमीफाइनल मैच मंगलवार 14 जून से खेला जाएगा। इसमें बंगाल का सामना मध्य प्रदेश से होगा और मुंबई का मुकाबला उत्तर प्रदेश से होगा। ये दोनों मैच क्रमश: कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन ग्राउंड अलूर और जस्ट क्रिकेट एकेडमी बैंगलोर में खेले जाएंगे। क्वार्टर फाइनल में, बंगाल ने पहली पारी की विशाल बढ़त के साथ झारखंड को हराया। यह एकमात्र क्वार्टर फाइनल था, जिसका कोई नतीजा नहीं निकला। मुंबई ने उत्तराखंड को 725 रन से, मध्य प्रदेश ने पंजाब को 10 विकेट से और उत्तर प्रदेश ने कर्नाटक को पांच विकेट से हराया। आइए नजर डालते हैं रणजी ट्रॉफी के इतिहास में इन चारों टीमों के प्रदर्शन पर।

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश की टीम एक बार खिताब जीती है और चार बार उप-विजेता रही है। साल 2005/06 में मोहम्मद कैफ की कप्तानी में टीम बंगाल को हराकर विजेता बनी थी। इसके अलावा टीम चार बार सेमीफाइनल तक पहुंची है। टीम आखिरी बार 2008/09 के सीजन में सेमीफाइनल में पहुंची थी। अब करन शर्मा की अगुवाई में टीम के सामने मुंबई जैसी मजबूत टीम की चुनौती है।

मुंबई : मुंबई रणजी ट्रॉफी के इतिहास की सबसे सफल टीम है। टीम 46 बार फाइनल में पहुंची है और सबसे ज्यादा 41 बार खिताब अपने नाम की है। इसके अलावा टीम ने पांच बार सेमीफाइनल तक का सफर तय किया है। चार बार क्वार्टर फाइनल तक पहुंची है। टीम आखिरी बार 2016/17 में फाइनल में पहुंची थी।

मध्य प्रदेश : मध्य प्रदेश की टीम एक बार भी खिताब नहीं जीत सकी है, लेकिन 11 बार कम से कम क्वार्टर फाइनल तक पहुंची है। टीम एक बार फाइनल में पहुंची है। चार बार सेमीफाइनल तक पहुंची है। छह बार क्वार्टर फाइनल तक पहुंची है। आखिरी बार टीम 2015/16 में सेमीफाइनल तक पहुंची थी।

बंगाल : बंगाल की टीम दो बार खिताब जीती है। 12 बार उप-विजेता रही है। इसके इलावा 17 बार सेमीफाइनल तक पहुंची है। वहीं क्वार्टर फाइनल तक भी 17 बार पहुंची है। टीम 2019/20 के सीजन में आखिरी बार फाइनल में पहुंची थी। सौराष्ट्र से हारकर तीसरी बार खिताब जीतने से चूक गई थी।